स्वर संधि की परिभाषा भेद और उदहारण – Swar Sandhi In Hindi

Swar Sandhi in Hindi

स्वर संधि किसे कहते हैं ?

स्वर संधि ( स्वर + स्वर )

स्वर संधि की परिभाषा – वह ध्वनि विकार जो परस्पर स्वरों के मेल से उत्पन्न होता है उसे स्वर संधि कहते है ।
अर्थात
दो स्वरों के मेल से उत्पन्न हुआ विकार ” स्वर संधि ” कहलाता है ।

स्वर संधि के भेद –
स्वर संधि के पाँच प्रकार होते है –

1. दीर्घ संधि
2.गुण संधि
3.वृद्धि संधि
4.यण संधि
5.अयादि संधि

उदहारण –

✦ विद्या + आलय = विद्यालय
✦ सत्य + अर्थी = सत्यार्थी
✦ देह + अंत = देहांत
✦ राम + अवतार = रामवतार
✦ मुनि + ईश = मुनीश
✦ ज्ञान + उपदेश = ज्ञानोपदेश
✦ सीम + अंत = सीमांत
✦ कुसुम + आकर = कुसुमाकर
✦ छात्रा + आवास = छात्रावास
✦ जन + आदेश = जनादेश
✦ नदी + ईश्वर = नदीश्वर
✦ नारी + ईश्वर = नारीश्वर
✦ हरि + ईश = हरीश
✦ परि + ईक्षक = परीक्षक
✦ परि + ईक्षा = परीक्षा
✦ प्रति + ईक्षा = प्रतिक्षा
✦ मंत्र + औषधि = मंत्रौषधि
✦ वन + औषध = वनौषध
✦ महा + ओज = महौज
✦ मति + अनुसार = मत्यनुसार
✦ रीति + अनुसार = रीत्यनुसार
✦ परि + अंक = पर्यंक
✦ अति + उक्ति = अत्युक्ति
✦ वि + ऊह = व्यूह
✦ पितृ + अनुमति = पित्रनुमति
✦ पितृ + आज्ञा = पित्राज्ञा
✦ मातृ + आनंद = मात्रानंद
✦ भौ + अक = भावुक
✦ शौ + इक = शाविक
✦ पौ + अक = पावक
✦ पो + अन = पवन
✦ भो + अन = भवन
✦ हो + अन = हवन

यह भी पढ़े – संधि

विसर्ग संधि
व्यंजन संधि

दोस्तो हमने इस आर्टिकल में Swar Sandhi in Hindi के साथ – साथ Swar Sandhi kise kahate hain, Swar Sandhi ki Paribhasha, Swar Sandhi ke bhed के बारे में पढ़ा। हमे उम्मीद है आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। आपको यहां Hindi Grammar के सभी टॉपिक उपलब्ध करवाए गए। जिनको पढ़कर आप हिंदी में अच्छी पकड़ बना सकते है।

Share your love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *