संबंधवाचक सर्वनाम | Sambandh Vachak Sarvanam – Hindi Grammar

संबंधवाचक सर्वनाम (Sambandh Vachak Sarvanam) : परिभाषा, भेद और उदाहरण | Sambandh Vachak Sarvanam in Hindi – इस आर्टिकल में हम संबंधवाचक सर्वनाम (Sambandh Vachak Sarvanam), संबंधवाचक सर्वनाम किसे कहते कहते हैं, संबंधवाचक सर्वनाम की परिभाषा, संबंधवाचक सर्वनाम के भेद/प्रकार और उनके प्रकारों को उदाहरण के माध्यम से पढ़ेंगे।  इस टॉपिक से सभी परीक्षाओं में प्रश्न पूछे जाते है।  हम यहां पर संबंधवाचक सर्वनाम ( Sambandh Vachak Sarvanam) के सभी भेदों/प्रकार के बारे में सम्पूर्ण जानकारी लेके आए है। Hindi में संबंधवाचक सर्वनाम (Sambandh Vachak Sarvanam) से संबंधित बहुत सारे प्रश्न प्रतियोगी परीक्षाओं और राज्य एवं केंद्र स्तरीय बोर्ड की सभी परीक्षाओं में यहां से questions पूछे जाते है। संबंधवाचक सर्वनाम इन हिंदी के बारे में उदाहरणों सहित इस पोस्ट में सम्पूर्ण जानकारी दी गई है।  तो चलिए शुरू करते है –

संबंधवाचक सर्वनाम किस कहते है?
संबंधवाचक सर्वनाम की परिभाषा – वह सर्वनाम शब्द जो किसी वाक्य में प्रयुक्त संज्ञा अथवा सर्वनाम के संबंध का बोध करवाए उसे संबंधवाचक सर्वनाम कहते है।
जैसे – जैसा -वैसा।  जिसको- उसको , जिससे – उससे , जो -सो , जो -वह , जितना -उतना आदि शब्द संबंधवाचक सर्वनाम शब्द है।

सम्बन्धवाचक सर्वनाम परिभाषा –

जिन सर्वनाम शब्दों का प्रयोग एक शब्द का दूसरे शब्द या एक वाक्यांश का दूसरे वाक्यांश से सम्बन्ध बताने के लिए किया जाता है , उन्हें संबंधवाचक सर्वनाम कहते है। 

अर्थात 

वे सर्वनाम शब्द जो प्रधान उपवाक्य से आश्रित उपवाक्यों के मध्य संबंध जोड़ने का कार्य करते है, संबंधवाचक सर्वनाम कहलाते है। 
– जैसा -वैसा।  जिसको- उसको , जिससे – उससे , जो -सो , जो -वह , जितना -उतना आदि शब्द संबंधवाचक सर्वनाम शब्द है। 

संबंधवाचक सर्वनाम के उदहारण – 

✦ जैसा कर्म करोगे , वैसा फल पाओगे। 
( उपर्युक्त वाक्य में “जैसा- वैसा ” सर्वनाम शब्द का प्रयोग हुआ है जिसके द्वारा  ‘कर्म और फल ‘ के मध्य संबंध बताया गया है ) 

✦ जितना काम करोगे उतनी ही पगार मिलेगी। 
( उपर्युक्त वाक्य में ‘ जितना -उतना ‘ सर्वनाम शब्द का प्रयोग हुआ है , जिसके द्वारा ‘काम और पगार ‘ के मध्य संबंध बताया गया है। )

✦ जो मेहनत करेगा , वह सफल हो जायेगा। 
( उपर्युक्त वाक्य में “जो – वह ” सर्वनाम शब्द का प्रयोग हुआ है , जिसके द्वारा ‘ मेहनत और  सफल ‘ के मध्य संबंध बताया गया है। )

✦ जो कर्म करोगें, सो फल पाओगें। 
(उपर्युक्त वाक्य में ” जो-सो ” सर्वनाम शब्द का प्रयोग हुआ है ,जिसके द्वारा ‘ कर्म और फल ‘ के मध्य संबंध बताया गया है। ) 

अन्य उदहारण-

✦ जैसी करनी वैसी भरनी। 
✦ यह वही लड़की है जिसे मैं पसंद करता हूँ। 
✦ जैसा बीज बोओगें, वैसा फल पाओगें। 
✦ यह वही कार है, जो मैं लेना चाहता हूँ। 
✦ जिसको तुम पसंद करते हो, उसको मैं भी पसंद करता हूँ। 
✦ जिससे तुमने पैसे उधर लिए, उससे मुझे भी पैसे दिला दो। 

अतः उपर्युक्त वाक्यों में एक – दूसरे के मध्य संबंध बताया जा रहा है , अतः ये संबंधवाचक सर्वनाम के अंतर्गत आते है। 

दोस्तो हमने इस आर्टिकल में Sambandh Vachak Sarvanam in Hindi के साथ – साथ Sambandh Vachak Sarvanam kise kahate hain, Sambandh Vachak Sarvanam ki Paribhasha, Sambandh Vachak Sarvanam ke bhed के बारे में पढ़ा। हमे उम्मीद है आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। आपको यहां Hindi Grammar के सभी टॉपिक उपलब्ध करवाए गए। जिनको पढ़कर आप हिंदी में अच्छी पकड़ बना सकते है।

Leave a Reply